You are here
Home > बॉलीवुड > कहां जाते हैं फिल्मों में हीरो-हीरोइन के पहने हुए कपड़े?

कहां जाते हैं फिल्मों में हीरो-हीरोइन के पहने हुए कपड़े?

बॉलीवुड मे कई एक्ट्रेस होते है. जो फिल्मो मे कई सारे कपडे पहनते है. और वो कपड़े कभी दोबारा पहने भी नहीं दिखाई देते. लोगो का कहना है की यह कहा जाते है. ऐश्वर्या राय ने विपुल शाह की ‘एक्शन रिप्ले’ में 125 कॉस्ट्यूम पहने थे. तो करीना कपूर ने मधुर भंडारकर की ‘हीरोइन’ में 130 ड्रेस पहनी थी. तो फिल्म खत्म होने के बाद वो कपड़े आखिर जाते कहां है? सोचा तो होगा ही! लेकिन बहुत ही कम लोगो को इस बात का पता होता है.

फिल्म खत्म होते ही उससे जुड़े सारे सामान पेटियों में बांधकर प्रोडक्शन हाउस पहुंचा दिए जाते हैं इन पेटियों पर फिल्म का नाम लिखा होता है. फिर उसे किसी और फिल्म में ‘मिक्स एंड मैच’ प्रोसेस के तहत इस्तेमाल कर लिया जाता है.

डिज़ाइनर आयशा खन्ना ने बताया कि फिल्म ‘बंटी और बबली’ के ‘कजरा रे’ गाने में जो ड्रेस ऐश्वर्या राय ने पहनी थी उसे ‘दोबारा’ इस्तेमाल किया गया. फिल्म ‘बैंड बाजा बारात’ के एक गाने में बैकग्राउंड डांसर को पहना दी थी . इसमें उसकी चोली को किसी और रंग के घाघरे के साथ सेट कर लिया गया था इससे उसे नोटिस भी नहीं किया जा सका.

कई बार तो ऐसा भी होता है की एक्ट्रेस पर्सनली डिजाइनर के साथ शॉपिंग पर जाते हैं कई बार वो लुक में अपनी पर्सनल वॉडरोब से भी कुछ चीज़ें जोड़ लेते हैं.

2011 में आई फिल्म ‘बुड्ढा होगा तेरा बाप’ में अमिताभ को स्टाइल करने का काम डिज़ाइनर लीपाक्षी एलावडी को दिया गया था. लिपाक्षी ने खुद ने कहा की फिल्म की शॉपिंग के लिए अमिताभ बच्चन खुद उनके साथ लन्दन गए थे. अमिताभ ने सोचा की कैसे केरी कर पाउँगा फिर सब सही किया और फिल्म के एन्ड होते ही कपडे प्रोडक्शन हाउस को भेज दिए गए.

अगर कोई स्टार फिल्म से जुड़ी याद के तौर पर कोई कपड़ा रखना चाहता है, तो उसे वो करने की इजाज़त होती है. लेकिन जब किसी फिल्म के लीड स्टार को सेलेब्रिटी डिज़ाइनर स्टाइल करता है, तो वो सारे कपड़े अपने साथ लेकर जाता है. ये सब फिल्म के प्रोडक्शन बजट में जुड़ा होता है.

कई बार तो बड़े एक्ट्रेस के कपडे पहने हुए नीलामी भी होते है. नीलामी से आई रकम जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए दान कर दिया जाता है. इसे ही अंग्रेजी में चैरिटी कहते हैं. लेकिन ये कुछ गिने-चुने मामलों में ही होता है.

Leave a Reply

Top