You are here
Home > वायरल > आखिर खुल ही गया राम सेतु का राज, जाने क्यों नही डूबे थे समुद्र में पत्थर

आखिर खुल ही गया राम सेतु का राज, जाने क्यों नही डूबे थे समुद्र में पत्थर

हम आपको को एक ऐसी घटना के बारे में बताने जा रहे है जो हमारी रामायण से जुड़ी है दोस्तों आप ने रामायण पढ़ी और देखी ही होगी कि जब राजा राम अपनी पत्नी सीता की खोज के लिए समुद्र तट पर एक पुल का निर्माण किया था जिसे आप राम सेतु के नाम से जानते है हम आपको बता दे कि उस समय इस पुल को वानरों ने बनाया था और ये पत्थरों से बनाया गया था और कहा गया है कि इन पत्थरों पर राम नाम लिखकर समुद्र में डाला गया था इसलिए ये पत्थर पानी मे डूबे नही थे और यह पुल 5 दिनों में बना लिया गया था और कहा जाता है कि यह पुल 30 किलोमीटर लंबा है और 3 किलोमीटर चौड़ा है.

दोस्तों कहा जाता है कि जब इस राम सेतु पुल का निर्माण हो गया तो राजा राम लंका की और इसी पुल से होकर पूरी वानर सेना के साथ लंका पहुँच गए थे और रावण का वध किया था सबसे बड़ी बात थी कि इस राम सेतु के पत्थर समुद्र के पानी मे तैर रहे थे और यह राम सेतु पुल भारत के रामेश्वरम को श्रीलंका के मन्नार से जोड़ता है और इसे ऐडम्स ब्रिज के नाम से जाना जाता है लोग इसे चमत्कार मानते है और इसकी वजह है पानी मे पत्थरों का तैरना लेकिन दोस्तों विज्ञान का नजरिया दूसरा है और उसने इस बात का पता लगाया और बताया कि यह पत्थर जिसके द्वारा राम सेतु का निर्माण हुआ इस पत्थर का नाम प्यूमाइस स्टोन है.

दोस्तों विज्ञान का मानना है कि यह पत्थर जवालामुखी के लावे से बनता है और इस पत्थर में कई तरीकों के छिद्र होते होते है जिस कारण यह पत्थर स्पंज का रूप ले लेता है और यह पत्थर पानी मे डूबता नही है बल्कि तैरता रहता है और दोस्तों वैज्ञानिकों ने सेटेलाइट की सहायता से इस समुद्र के बने राम सेतु पुल को सेटेलाइट किया है और इसके बारे में पता लगाया है और इस कारण ही इस पत्थर के बारे में पता चल पाया है दोस्तों वर्तमान समय मे यह पुल पानी के अंदर डूबा हुआ है और इस कारण यह लोगो को दिखता नही है। तो दोस्तों आप क्या सोचते है वैज्ञानिकों की इस खोज के बारे में तो हमे आप अपनी राय हमारे कमेंट बॉक्स के जरूर दे ताकि हम आपको और भी रोचक जानकारी दे सके धन्यवाद.

Leave a Reply

Top